करनवीर का पहला प्यार क्रिकेट नहीं बल्कि टेबल टेनिस
करनवीर का पहला प्यार क्रिकेट नहीं बल्कि टेबल टेनिस
07, Oct 2018,02:10 PM
TV100,

विजय हजारे ट्रॉफी में शनिवार को करनवीर कौशल इतिहास में दोहरा शतक लगाने वाले देश के पहले क्रिकेटर बने। अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट में दोहरे शतक लगाने वाले रोहित शर्मा, सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग जैसे दिग्गज बल्लेबाज भी घरेलू क्रिकेट में ऐसा नहीं कर पाए हैं। लेकिन करनवीर का पहला प्यार क्रिकेट नहीं टेबल टेनिस था। टेबल टेनिस की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपना जलवा बिखेर चुके करनवीर 16 साल की उम्र में पहली बार क्रिकेट खेलने उतरे। 

शनिवार को करनवीर के रिकॉर्ड बनाने पर उनके माता-पिता भी काफी खुश नजर आए हैं। उनका कहना है कि देवभूमि के आशीर्वाद से आज करनवीर ने यह मुकाम हासिल किया है। करनवीर मोथरोवाला के विष्णुपुरम कालोनी के निवासी हैं। उनके पिता निर्मल कुमार शर्मा उत्तर प्रदेश पुलिस सब इंस्पेक्टर हैं और मां राधा कौशल उत्तराखंड पुलिस में सब इंस्पेक्टर हैं। करनवीर के पिता ने बताया कि 16 साल की उम्र में करनवीर ने क्रिकेट खेलना शुरू किया था। इससे पहले वो टेबल टेनिस के लिए राष्ट्रीय प्रतियोगिता में उत्तराखंड के लिए खेले हैं। 

उन्होंने जसवंत मॉडर्न स्कूल में हाईस्कूल की पढ़ाई के दौरान क्रिकेट खेलने का मन बनाया और अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी ज्वॉइन की। करनवीर का कहना है कि उन्होंने शुरुआत में एसीए के कोच मनोज रावत, रवींद्र नेगी से क्रिकेट की बारीकियां सीखीं। 10वीं के बाद स्कॉलर्स होम में एडमिशन लिया, लेकिन उत्तराखंड को मान्यता नहीं थी तो उत्तर प्रदेश का रुख किया। उधर उन्होंने कानपुर में कोच मनीष पांडे से कोचिंग ली। वो बीते दो साल से उत्तर प्रदेश रणजी टीम के कैंप में शामिल रहे। मगर, उत्तराखंड को मान्यता मिलने पर वापस घर आ गए और फिर अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी ज्वाइन की। 

टीम के सीनियर ने 200 बनाने का हौंसला दिया 
शनिवार को 200 रन बनाने के सवाल पर बोले कि जब 170 रन के करीब थे, तब उन्होंने 200 रन के बारे में सोचा। उनकी इस कामयाबी में विनीत सक्सेना का बहुत योगदान रहा। उन्होंने बताया कि वो (विनीत) लगातार उसको बोलते रहे कि पिछली पारियों के शॉट नहीं खेलने, इसलिए इस बार वो गलती नहीं की। 100 रन बनाने के बाद उन्होंने नया टारगेट बनाकर खेलने को कहा, जिससे वो आगे बढ़ते गए। मगर जब वो आउट होकर पवेलियन लौटे तो उनको नए रिकॉर्ड बनने का पता चला। 

ये भी पढ़ें :

सहारनपुर के एक स्कूल में आम्बेडकर की पेंटिंग पर पोता कालिख

खबरें