शॉ की सहवाग से तुलना पर गांगुली की मुखालफत
शॉ की सहवाग से तुलना पर गांगुली की मुखालफत
05, Oct 2018,11:10 AM
TV100,

वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली जा रही टेस्ट मैच की सीरीज से ज्यादा चर्चा टीम इंडिया के 18 वर्षीय युवा खिलाङी पृथ्वी की है। शॉ ने गुरूवार को 154 गेंदों में 134 रन बना कर सबको सकते में डाल दिया। शॉ के इस शानदार प्रदर्शन के बाद उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली और वीरेंद्र सहवाग सरीखे धुरंधरों से करी जाने लगी। लेकिन पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने इस पर आपत्ती जताते हुए वीरेंद्र सहवाग से उनकी तुलना की खबरों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि शॉ को अभी और समय देना चाहिए, ताकि वह विश्व में कहीं भी रन बना सके।

गांगुली ने कोलकाता में कहा, 'पृथ्वी की तुलना सहवाग से मत कीजिए। सहवाग एक जीनियस थे। उन्हें अभी विश्व का दौरा करने दीजिए। मुझे विश्वास हैं कि वह ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में रन बनाएंगे।'

गांगुली ने कहा, 'पदार्पण टेस्ट में शतक बनाने के बाद उनके लिए यह एक असाधारण दिन होना चाहिए। उन्होंने रणजी के पदार्पण में भी शतक बनाया था। इसके अलावा उन्होंने दलीप ट्रॉफी में भी पदार्पण करते हुए शतक जमाया था, इसलिए यह असाधारण है।'

बता दें कि सौरव गांगुली ने भी 1996 में लॉर्डस में इंग्लैंड के खिलाफ अपने पदार्पण टेस्ट में शतक जड़ा था। उन्होंने कहा, 'मैंने रणजी ट्रॉफी के पदार्पण मैच में शतक नहीं लगाया था। लेकिन इसके अलावा मैंने दलीप ट्रॉफी और भारत की ओर से पदार्पण मैच में शतक लगाया था।'

शॉ की बल्लेबाजी के बारे में पूछे जाने पर गांगुली ने कहा कि 'बल्लेबाजी करने के लिए यह उनकी सकारात्मकता, स्वभाव और जो रवैया है वह शानदार है। अंडर-19 विश्वकप खेलना और भारत के लिए टेस्ट मैच खेलना पूरी तरह से अलग है। मैंने राजकोट में जो देखा वह आंखों को सकून देने वाला था। मुझे उम्मीद है कि वह भारत के लिए लंबे समय तक खेल सकते हैं।'

 

ये भी पढ़ें :

अंधाधुन में सस्पेंस का भरपूर तङका

खबरें