देश में बाढ़ प्रभावितों की संख्या 70 लाख पार, 44 मौतें
देश में बाढ़ प्रभावितों की संख्या 70 लाख पार, 44 मौतें
16, Jul 2019,12:07 PM
TV100,

बिहार व पूर्वोत्तर राज्यों में बाढ़ से 70 लाख से अधिक नागरिक प्रभावित हुए हैं, 44 की मौत हुई है। असम के 33 में से 31 जिलों के 43 लाख नागरिक बाढ़ की चपेट में हैं। यहां 15 नागरिकों को मौत हुई है। बिहार में 12 जिलों की 25 लाख से अधिक का जनजीवन प्रभावित हुआ है, यहां सोमवार शाम तक 24 की मौत हुई है।

बिहार में नेपाल में हो रही बारिश ने बाढ़ का कहर बढ़ाया है। पूर्वी चंपारन में दो बाढ़ का बहाव देख रहे पांच बच्चे जयसिंहपुर नहर व पानी से भरे गड्ढे में डूब गए। इन्हें एनडीआरएफ ने अभी बाढ़ मृतकों में नहीं गिना है।

वहीं अररिया में 9 और मोतिहारी में 10 लोगों की जान गई है। दरभंगा में बचाव कार्यों के साथ खाने के पैकेट बंटवाए जा रहे हैं और प्रभावित क्षेत्रों में डॉक्टर भेजे गए हैं। सीएम नितीश कुमार ने पूर्णिया, अररिया, कटिहार और किशनगंज जिलों का हवाई सर्वेक्षण कर हालात का जायजा लिया है।

लगातार सात दिन की बारिश से मेघालय में सवा लाख नागरिक बाढ़ की चपेट में हैं। ब्रह्मपुत्र व जिंजिराम नदियों ने कई इलाकों को डुबो दिया है। पश्चिम गारो पर्वतीय जिले के मैदानी इलाके बाढ़ की चपेट में हैं। डेमडेमा ब्लॉक के 50 गांवों के और सेलसेल्ला ब्लॉक के 104 गांवों के नागरिक बाढ़ की चपेट में हैं। राजधानी शिलांग के निचले इलाकों में पानी भरा है।

यहां खावथलांगतुईपुई नदी में बाढ़ से लुंगेई जिले में 32 गांवों के 700 घर बाढ़ में डूबे हैं। यहां से आठ सौ परिवारों को सुरक्षित स्थान पर भेजा गया है। बारिश से मिजोरम में सोमवार तक पांच नागरिकों की मौत हुई है। दो सौ परिवारों को केंद्रीय मिजोरम के सेरचिप जिले से निकाल सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है।

राजधानी अगरतला में बाढ़ से बेघर हुए 10 हजार लोग भटक रहे थे। उन्हें राहत शिविरों में शरण दी गई है। प्रदेश में कुल 15 हजार नागरिकों को सरकारी इमारतों में आश्रय दिलाया गया है। तेज बारिश ने पश्चिम त्रिपुरा और खोवाई जिलों में तबाही मचाई है। हालांकि सोमवार शाम तक खोवाई और हाओरा नदिया का जलस्तर घटने से हालात में सुधार आने लगा। क्षेत्रीय मौसम विभाग निदेशक दिलीप साहा के अनुसार सोमवार को बारिश रुकी है।

भारी बारिश के बाद यहां पालघर और ठाणे जिलों को हाईअलर्ट पर रखा गया है। क्षेत्र में बने दो बड़े बांध पूरी तरह भर चुके हैं।

ये भी पढ़ें :

स्पीकर:स्टे हटाए SC तो इस्तीफों पर कल तक लेंगे फैसला

खबरें