महिलाओं के खिलाफ अपराधों से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री नाराज
महिलाओं के खिलाफ अपराधों से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री नाराज
12, Jun 2019,04:06 PM
TV100,

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में महिलाओें के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों पर नाराजगी जताई और अफसरों को कानून व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए। उन्होंने अफसरों को पुलिस की विजिबिलिटी बढ़ाने के साथ ही फुट पेट्रोलिंग बढ़ाने की बात कही।

मुख्यमंत्री बुधवार को लखनऊ के लोकभवन में जिलों के जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों व पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने अलीगढ़ की घटना पर नाराजगी जताई और अफसरों से अपराध न रुक पाने का कारण पूछा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एंटी रोमियो स्क्वायड को और प्रभावी बनाया जाए। साथ ही उन्होंने जिलाधिकारियों को सरकार की योजनाओं को आमजन तक पहुंचाने के निर्देश दिए। योगी ने कहा कि योजनाओं का लाभ समाज के सबसे गरीब लोगों को मिले।

उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति भूखा न सोए। अगर किसी कारण उसे योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है तो उसे इलाज के लिए दो हजार रुपये व मृत्यु पर उसके परिवार को पांच हजार रुपये पंचायत निधि से दिए जाएं।

इसके पहले मीटिंग में जाते समय अफसरों के फोन जमा करवा लिए गए हैं। आपको बता दें कि पिछले दिनों फरमान जारी किया गया था कि मंत्रीगण व अफसर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में होने वाली बैठकों में फोन नही ले जा सकेंगे। उन्हें बैठक कक्ष के बाहर ही अपना फोन छोड़ना होगा।

इसे लेकर मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने आदेश भी जारी किया था जिमसें कहा गया था कि लोकभवन स्थित मंत्रिपरिषद कक्ष में किसी का भी मोबाइल फोन लाना प्रतिबंधित है। यह पत्र उप मुख्यमंत्री, सभी कैबिनेट मंत्री, स्वतंत्र प्रभार के सभी राज्यमंत्रियों व राज्यमंत्रियों के निजी सचिवों को दिया गया था।

इस आदेश का असर तब दिखा जब बुधवार को कानून व्यवस्था को लेकर हुई बैठक में अफसरों के फोन बाहर रखवा लिए गए। उन्हें किसी तरह की असुविधा न हो इसके लिए मोबाइल जमा करने पर टोकन दिया गया जिसे वापस करने पर मोबाइल फिर से लिया जा सकेगा।

ये भी पढ़ें :

उत्तर प्रदेश बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की गोली मारकर हत्या

खबरें