पाकिस्तानी वायु सेना ने किया सुखोई-30 को मार गिराने का दावा, एफ-16 की नुकसान को छिपाने में PAK
पाकिस्तानी वायु सेना ने किया सुखोई-30 को मार गिराने का दावा, एफ-16 की नुकसान को छिपाने में PAK
06, Mar 2019,12:03 PM
tv100,

रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को पाकिस्तान के भारतीय वायु सेना के सुखोई-30 को गिराए जाने के दावे को खारिज कर दिया है। पाकिस्तान ने दावा किया है कि 27 फरवरी को पाकिस्तानी और भारतीय वायु सेना के बीच हुई हवाई लड़ाई में उसने भारत के सुखोई-30 को मार गिराया था। इस मामले में भारतीय रक्षा मंत्रालय का कहना है कि पाकिस्तान ये झूठा दावा इसलिए कर रहा है ताकि वह अपने लड़ाकू विमान को गिराए जाने वाली खबर को छिपा सके।

पाकिस्तान के सुखोई-30 को मार गिराए जाने के झूठे दावे से पता चलता है कि वह अपने स्वयं के विमान के नुकसान को छिपाना चाहता है।

मंत्रालय ने कहा, "भारतीय वायु सेना की ओर से बचाव के लिए मिराज-2000, सुखोई-30 और मिग-21 को लगाया गया, जिन्होंने पाकिस्तानी वायु सेना के विमानों को बेहद ही कम समय में वापस लौटने पर मजबूर कर दिया। जो उनके द्वरा गिराए गए बमों की चूक से साबित होता है।"

मंत्रालय ने कहा, हवाई लड़ाई के वक्त पाकिस्तान ने एफ-16 का इस्तेमाल किया, एमरॉम (एएमआरएएएम) मिसाइलों को एयर टू एयर कई बार छोड़ा गया। अमेरिका ने जब पाकिस्तान को एफ-16 बेचा था तो कुछ शर्तें भी रखी थीं। इसमें लिखा था कि इसे वह किसी तीसरे देश के लिए इस्तेमाल नहीं करेगा। वह केवल आत्मरक्षा और आतंक के खिलाफ ही एफ-16 का इस्तेमाल कर सकता है।

एमरॉम मिसाइल का जवाब देने के लिए सुखोई-30 ने बेहतर प्रदर्शन किया और मिसाइल को मार गिराया। मिसाइल के हिस्से जम्मू कश्मीर के राजौरी में जाकर गिरे। जिसमें एक नागरिक भी घायल हो गया। भारतीय वायु सेना ने 28 फरवरी को प्रेस वार्ता के दौरान सबूत के तौर पर मिसाइल के टुकड़े भी दिखाए थे।

ये भी पढ़ें :

सुप्रीम कोर्ट में राफेल मामले पर सुनवाई को लेकर नया मोड़

खबरें