हार्दिक पांड्या न्यूजीलैंड में जारी वन-डे सीरीज में टीम इंडिया के साथ जुड़ेंगे
हार्दिक पांड्या न्यूजीलैंड में जारी वन-डे सीरीज में टीम इंडिया के साथ जुड़ेंगे
25, Jan 2019,12:01 PM
tv100,

सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति (सीओए) ने गुरुवार को टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या और ओपनर केएल राहुल पर तत्काल प्रभाव से निलंबन हटा दिया। 

इसके बाद बोर्ड ने देर रात एलान किया कि हार्दिक पांड्या न्यूजीलैंड में जारी वन-डे सीरीज में टीम इंडिया के साथ जुड़ेंगे जबकि राहुल इंग्लैंड लॉयंस के खिलाफ भारत-ए के लिए खेलते दिखेंगे। 

याद हो कि पांड्या और राहुल को एक टीवी शो में महिलाओं के संबंध में आपत्तिजनक टिप्पणियां करने की वजह से निलंबित कर दिया गया था। दोनों को ऑस्ट्रेलिया दौरे से स्वदेश बुला लिया गया था।

बीसीसीआई ने अपने बयान में कहा कि सीओए के निलंबन हटाने के बाद सीनियर सिलेक्शन कमेटी ने फैसला किया है कि हार्दिक पांड्या न्यूजीलैंड में टीम इंडिया के साथ जुड़ेंगे। वहीं केएल राहुल इंग्लैंड लॉयंस के खिलाफ भारत-ए के लिए खेलेंगे। पांड्या शुक्रवार को न्यूजीलैंड के लिए रवाना होंगे। 

इससे पहले बीसीसीआई ने सीओए के बयान में कहा था, 'हार्दिक पांड्या और केएल राहुल पर निलंबन हटाने का फैसला न्यायमित्र पी एस नरसिम्हा की सहमति से लिया गया है। इसे देखते हुए 11 जनवरी के निलंबन आदेशों को लोकपाल की नियुक्ति और उनके द्वारा फैसला लिए जाने तक तुरंत प्रभाव से हटा दिया गया है।'

इस मामले में हालांकि जांच होगी, जिसके लिए सुप्रीम कोर्ट को लोकपाल नियुक्त करना है। शीर्ष अदालत ने इस मामले को 5 फरवरी को अस्थायी रूप से सूचीबद्ध किया है। अगर कर्नाटक रणजी ट्रॉफी फाइनल में जगह बनाता है तो 26 वर्षीय राहुल उस मैच में मयंक अग्रवाल के साथ पारी की शुरुआत कर सकते हैं। 

पता हो कि पांड्या और राहुल ने 'कॉफी विद करण' कार्यक्रम के दौरान कई महिलाओं के साथ संबंध बनाने की बात की थी, जिसके लिए उनकी कड़ी आलोचना हुई थी। 

सीओए की सदस्या डायना इडुल्जी चाहती थी कि इन दोनों क्रिकेटरों के भाग्य का फैसला करने में बीसीसीआई के किसी अधिकारी को शामिल होना चाहिए, लेकिन सीओए प्रमुख विनोद राय ने उनका सुझाव नामंजूर कर दिया था क्योंकि यह बोर्ड के संविधान का उल्लंघन होता। सीओए ने कहा कि इन दोनों खिलाड़ियों को निलंबित करने का फैसला 'बीसीसीआई के संविधान के नियम 46 के तहत लिया गया जो कि खिलाड़ियों के व्यवहार से संबंधित है।'

ये भी पढ़ें :

गरीबों के आरक्षण पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, केंद्र से मांगा जवाब

खबरें